बिजनेस


Mastercard:आखिरकार एक साल बाद भारतीय रिजर्व बैंक ने मास्टरकार्ड पर लगे बैन को तत्काल प्रभाव से हटा दिया है। अब मास्टरकार्ड नए ग्राहकों को फिर से जोड़ सकेगा।


करीब एक साल बाद मास्टरकार्ड को बड़ी राहत मिली है। अमेरिकी कंपनी मास्टर कार्ड अब नए ग्राहक जोड़ सकेगा क्योंकि rbi ने इसकी अनुमति दे दी है। इसके साथ ही RBI ने मास्टरकार्ड पर लगाये गए प्रतिबन्ध भी तत्काल प्रभाव से हटा दिए हैं। इस कदम से मास्टरकार्ड लेने की चाह रखने वाले ग्राहकों के लिए भी एक राहत भरी खबर है। आरबीआई ने पिछले साल ही मास्टरकार्ड पर नए ग्राहकों को जोड़ने पर प्रतिबंध लगाया था क्योंकि ये पेमेंट सिस्‍टम डाटा के स्‍थानीय स्‍टोरेज के नियमों का पालन नहीं कर रहा था।


RBI ने एक बयान में कहा, "मास्टरकार्ड एशिया / पैसिफिक पीटीई लिमिटेड द्वारा पेमेंट सिस्टम डाटा से जुड़े डाटा का रखरखाव नियमों के तहत संतोषजनक पाए जाने के बाद उसपर नए ग्राहकों को जोड़ने से जुड़े प्रतिबंध तत्काल प्रभाव से हटा लिया गया है।" पीएसएस एक्‍ट के तहत देश में कार्ड नेटवर्क के संचालन की अनुमति दी गई है।


बता दें कि वर्ष 2021 में आरबीआई ने मास्टरकार्ड द्वारा पेमेंट सिस्‍टम डाटा के स्‍थानीय स्‍टोरेज से जुड़ी गाइडलाइन का पालन करने पर नए ग्राहकों के जोड़ने पर प्रतिबंध लगा दिए थे। हालांकि, आरबीआई ने स्पष्टव दिया था कि इससे पुराने ग्राहकों को कोई परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा।


दरअसल, आरबीआई के नियमों के अनुसार सभी पेमेंट और ट्रांजेक्शन से जुड़ी कंपनियों को ग्राहकों के पेमेंट डाटा को भारत में ही स्टोर करने और गोपनीय रखना आवश्यक है। गौरतलब है कि भारतीय RUPAY कार्ड मास्टरकार्ड और visa जैसी कंपनियों को कड़ी टक्कर दे रहा है।